bbc news

  • Feb 13 2020 2:38PM
Advertisement

कोरोना वायरस: चीन में हुबेई प्रांत में तेज़ी से बढ़ी मरने वालों की संख्या

कोरोना वायरस: चीन में हुबेई प्रांत में तेज़ी से बढ़ी मरने वालों की संख्या

हुबेई

Getty Images

चीन के हुबेई प्रांत में कोरोना वायरस से सिर्फ़ बुधवार को 242 लोगों की मौत हो गई है. एक दिन में कोरोना से इतनी ज़्यादा मौत पहली बार हुई है.

कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है. हुबेई में 14840 और लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए हैं.

हुबेई में लोगों की जाँच अब नए और व्यापक तरीक़े से हो रही है और इसलिए ये संख्या और बढ़ रही है.

इस कारण अब चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 1350 से भी ज़्यादा हो गई है, जबकि कुल 60 हज़ार मामले सामने आए हैं.

कोरोना वायरस के जाँच का नया तरीक़ा क्या है?

जहाज़
AFP

पूरे चीन में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के जितने मामले सामने आए हैं, उनमें से 80 प्रतिशत मामले सिर्फ़ हुबेई प्रांत के हैं.

हुबेई में अब जाँच के नए तरीक़े अपनाए जा रहे हैं. अब उन लोगों को भी संक्रमित लोगों में शामिल किया जा रहा है, जिनके सीटी स्कैन में फेफड़े का संक्रमण दिख रहा है और जिनमें थोड़े बहुत भी लक्षण दिखाई दे रहे हैं. पहले सिर्फ़ न्यूक्लेइक एसिड टेस्ट पर ही भरोसा किया जा रहा था.

इस बीच 2000 लोगों को लेकर जा रहे एक जहाज़ कंबोडिया पहुँच गया है. पाँच देशों ने इस जहाज़ को इस डर से वापस भेज दिया कि इसमें कोरोना से संक्रमित कुछ लोग हैं.

जापान, ताइवान, गुआम, फिलीपिंस और थाइलैंड ने इस जहाज़ को वापस भेज दिया था.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख ने कंबोडिया के फ़ैसले का स्वागत किया है.

इस बीच जापान के योकोहामा में अलग-थलग रखे गए जहाज़ डायमंड प्रिंसेस में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के 44 अन्य मामले सामने आए हैं.

कोरोना का वैक्सीन

चीन
Getty Images

इसका मतलब ये है कि जहाज़ पर मौजूद 3700 लोगों में से 218 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं. जबकि अभी सबकी जाँच नहीं हुई है.

वायरस से संक्रमित लोगों को इलाज के लिए ले जाया गया है.

इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि इस महामारी के ख़ात्मे के बारे में कुछ भी कहना अभी जल्दबाज़ी होगी.

संगठन ने चेतावनी दी है कि अभी ये महामारी कहीं भी हो सकती है.

डब्लूएचओ के हेड ऑफ़ इमरजेंसी माइकल रयान ने कहा है कि संगठन 441 में से आठ मामलों में वो संक्रमण का स्रोत पता लगाने में सफल रहे हैं. लेकिन ये सभी मामले चीन के बाहर के हैं.

डब्लूएचओ ने ये भी उम्मीद जताई है कि इसका वैक्सीन तैयार हो जाएगा, लेकिन इसमें थोड़ा समय लगेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

]]>

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement