Economy

  • Feb 25 2020 10:57AM
Advertisement

Donald Trump in India : भारत-अमेरिका के बीच आज होगी 3 अरब डॉलर की डिफेंस डील

Donald Trump in India : भारत-अमेरिका के बीच आज होगी 3 अरब डॉलर की डिफेंस डील

नयी दिल्ली : भारत और अमेरिका के बीच मंगलवार को बड़ी डिफेंस डील होने वाली है. दोनों देश 3 अरब डॉलर की मेगा डिफेंस डील पर दस्तखत करेंगे. अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने सोमवार को कहा था कि वह दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग को मजबूती से आगे बढ़ायेंगे.

उन्होंने कहा था कि अमेरिका अपने दोस्त भारत को इस ग्रह का सबसे खतरनाक सैन्य उपकरण देगा. हम सबसे खतरनाक और सबसे अच्छा हथियार बनाते हैं और उसके लिए भारत से करार होने जा रहा है.

अमेरिका और भारत के बीच सबसे बड़ी डील 24 MH-60 रोमियो हेलिकॉप्टर की होगी. यह डील 2.6 अरब डॉलर है, जबकि 6 अपाचे हेलीकॉप्टर के लिए 800 मिलियन डॉलर का करार होगा. अपाचे हेलीकॉप्टर की डील बोइंग कंपनी के साथ होगी. सुरक्षा को लेकर कैबिनेट कमेटी पहले ही इस करार को मंजूरी दे चुकी है.

भारतीय नौसेना के लिए 8 Poseidon P8I मल्टी मिशन एयरक्राफ्ट की खरीद पर भी बातचीत हो सकती है. इतना ही नहीं, दिल्ली को अभेद्य बनाने के लिए स्पेक्ट्रम मिसाइल शील्ड के संबंध में भी दोनों देशों के बीच बातचीत होने की उम्मीद है.

भारत और अमेरिका के बीच आज दिल्ली में दो करार होंगे. एक करार के तहत अमेरिका भारत को 24 MH-60R हेलीकॉप्टर देगा, जिसका इस्तेमाल इंडियन नेवी करेगी. वहीं, इंडियन आर्मी के लिए 6 AH-64E अपाचे हेलीकॉप्टर की भी खरीदारी की जायेगी.

इस रक्षा सौदे के बाद भारत को अमेरिका स्टेट ऑफ आर्ट मिलिट्री हेलीकॉप्टर की बिक्री करेगा. इसके अलावा भारत को अमेरिकी ड्रोन, मिसाइल सिस्टम समेत अन्य सैन्य उपकरण की भी आपूर्ति भी की जायेगी. अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में ट्रंप ने कहा था कि वह भारत को सबसे बेहतरीन सैन्य उपकरण उपलब्ध कराना चाहते हैं.

उल्लेखनीय है कि ट्रंप के अमेरिका से भारत के लिए रवाना होने से पहले चर्चा थी कि दोनों देशों के बीच इस यात्रा के दौरान कोई व्यापार समझौता नहीं होगा. इसके कई कारण गिनाये जा रहे थे. लेकिन, अब स्पष्ट हो गया है कि दोनों देशों के बीच 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता होने जा रहा है.

भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन शृंगला ने पिछले दिनों कहा था कि दोनों देशों के बीच रक्षा, आतंकवाद, ऊर्जा और क्षेत्रीय मुद्दों के अलावा लोगों के बीच संपर्क स्थापित करने से जुड़े विषयों पर चर्चा होगी, ताकि दोनों देशों के रणनीतिक संबंध और मजबूत हों.

Most Popular

Advertisement

Comments

Advertisement

Other Story

Advertisement